मौसी ने मुझे मुठ मारते पकड़ा Part – 2

loading...

मौसी बाथरूम से निकल कर कमरे में आयी मैं सोने का नाटक कर रहा था मौसी बिस्तर में आ कर लेट गयी मैं ऐसे ही सोया रहा मुझे नींद नहीं आ रही थी, indiansexkahani.com मैं उठ कर देखा मौसी सो चुकी थी और मैं बाथरूम चला गया मुझ से कण्ट्रोल नहीं हो रहा था, मैं लंड निकाल कर मुठ मारने लगा। आँखें बंद कर के मौसी को याद कर के उसके नाम की मुठ मारे जा रहा था मैं बाथरूम का दरवाजा लॉक करना भूल गया था मुझे पता ही नहीं चला बाहर से मौसी सब देख रही थी।

loading...

मैं मुठ मार कर जैसे ही पलटा मौसी मेरे लंड को घूर कर देख रही थी और मैं जल्दी से लंड चड्डी में डाल कर कमरे में आया. मौसी बोली क्या कर रहा था तू ? मौसी जो आप कर रही थी वही मैं भी कर रहा था ? मौसी बोली क्या मतलब मैं क्या की हु ? मौसी जी आप भी तो छूट में ऊँगली डाल के मजे ले रही थी, मैंने सब सुना है और आप के मोबाइल में सेक्स वीडियो है वो भी देख चुका हु। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 

मौसी चुप हो कर लेट गयी मैं मौसी के बगल में लेट गया और उनको पकड़ कर बोला जानेमन मैं तुमसे बहोत प्यार करता हु, मैं 14 साल का था तब से तेरा दीवाना हु।
मौसी चुप थी मैं उसको पूरी तरफ अपनी बाँहों में दबा लिया था और मौसी के ओंठो को चुम रहा था मेरे हाथ उनके बूब्स और गांड को बारी बारी से मसल रहे थे। मौसी की सांसे तेज होने लगी और वो जोश में आगयी और बोली राहुल मैं तेरी हु, मेरी इतने सालों की प्यास बुझा दे मुझे अपनी बीवी बना ले चोद डाल मुझे। मैं मौसी का नाईट सूट उतारा और उनकी ब्रा खोल दिया उनके बूब्स क्या मस्त बड़े बड़े मेरे सामने लटक रहे थे मैं आम की तरफ उनके बूब्स चूसने लगा मौसी अह्ह्ह आह्ह्ह्हह ओह्ह्ह्हह्ह उह्ह्हह्ह उईईई आउच करने लगी।

loading...

मेरा लंड चड्डी के अंदर छटपटा रहा था मौसी मेरा टी शर्ट और लोअर उतार कर फ़ेंक दी और मेरे लंड को चड्डी के ऊपर से सहलाने लगी, मैं बोला मौसी खोल कर देखो आप का ही है जो चाहे करो इसके साथ, मौसी मेरी चड्डी निचे की और लंड को दोनों हाथो में ले कर चूसने लगी मैं बेड पर बैठा हुआ था और मौसी निचे थी मैं उसके बूब्स को दबा रहा था जिससे उसका जोश और ज्यादा हो रहा था।

अब मैं मौसी को उठा कर बिस्तर में लेटा दिया और उनकी पेंटी उतार कर देखा उनकी चूत पूरी तरह गीली हो गयी थी मौसी की चूत गुलाबी और बिल्कुल साफ़ चिकनी थी। मैं चूत पर टूट पड़ा और जीभ अंदर डाल कर चाटने लगा मौसी मेरे सर को पकड़ कर अपनी चूत में दबा रही थी चूत से अजीब सी खुसबू आ रही थी चूत का स्वाद नमक जैसा था मौसी की छूट का पानी मेरे पुरे मुँह में लगा हुआ था, मैं उठ कर मौसी के ओंठो को चूमने लगा।

मौसी की गांड बहोत बड़ी और मोटी है जिसका मैं दीवाना हूँ, मैं मौसी को उल्टा लेटा कर उसकी गांड को चाट रहा था और गांड की छेद ऊँगली कर रहा था मौसी जोश में सिसकारियां ले रही थी, आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। 
अब मौसी को सीधा लेटा कर उनके ऊपर चढ़ गया और उनकी चुत पर लंड रख दिया और अंदर डालने लगा, लेकिन लंड अंदर जा नहीं रहा था। मौसी और मैं दोनों का ये पहला सेक्स था मौसी की चूत पूरी सील पैक थी। मैं उठा और आयल की बोतल ले कर आया और मौसी की चूत में आयल डाल दिया और अपने लंड में थोड़ा सा आयल डाल कर उनके उपदर चढ़ गया इस बार मैं पूरी ताकत से चूत में लौड़ा पेल दिया लंड जैसे ही अंदर गया मौसी चीख उठी मैं मौसी के मुँह में हाथ रख दिया और थोड़ी देर ऐसा ही रुका रहा 2-3 मिनट के बाद मैं मौसी के बूब्स चूस कर उनको फिर से जोश में ले आया और मौसी बोली लंड अंदर डालो। मैंने एक ही बार मे जोर का झटका दिया और मेरा लंड मौसी की चूत को फाड़ कर पूरा अंदर चला गया, मौसी की चूत से खून निकल रहा था।

मेरे ओंठ मौसी के ओंठो पर थे और लंड चूत में, चुदाई शुरू थी मौसी निचे से झटके लगा रही थी, मैंने चोदने की स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से चोदने लगा।
मेरा कमरा लॉक था और पुरे कमरे में मौसी की सिसकारियां और चुदाई की फच फच फच की आवाज गूंज रही थी मौसी बहुत ज्यादा जोश में थी मौसी मेरे पीठ में अपने नाख़ून गड़ा दी और मुझे कंधे में काटने लगी मैं जोश में था मुझे दर्द की जगह मजा आ रहा था मैं स्पीड और ज्यादा कर दिया मेरा लंड उनकी चूत में अंदर बहार हो रहा था। 10-12 मिनट चोदने के बाद मेरे लंड का पूरा पानी मौसी की चूत में भर गया। मौसी की चूत का पानी निकल चूका था, हम दोनों ऐसे ही नंगे लेटे रहे मौसी मुझ से लिपटी हुई थी और उनकी चूत मेरे लंड से सटी हुई थी।

मौसी की चूत से मेरे लंड का पानी निकल रहा था और हम दोनों बाथरूम में जा कर एक दूसरे को साफ़ किये उसके बाद हम दोनों साथ बैठ कर पेशाब किये और सोने के लिए कमरे में आ गए सुबह के 4 बज रहे थे हम दोनों ने एक बार और चुदाई की और कपडे पहन कर सो गए। उस रात से मैं मौसी को डेली चोदने लगा रात भर हमारी चुदाई चलती थी। कुछ दिन बाद मौसी चली गयी और मैं अकेला हो गया मुझे उनके चूत की याद सताने लगी। आप ये स्टोरी इंडियन सेक्स कहानी डॉट कॉम पर पढ़ रहे है। मेरे कॉलेज की परीक्षा ख़त्म हुई और मैं माँ को बोल कर छुटियों में भोपाल अपने अंकल के यहाँ चला गया जहा रह कर मेरी दीदी पढाई कर रही है। दीदी के एग्जाम नहीं हुआ है इसलिए वो वही है।

दोस्तों मेरे अंकल के घर पर अंकल आंटी और उनकी एक बेटी है जिसका नाम रुपाली है। मैं दीदी और रुपाली हम तीनो बचपन के दोस्त है और साथ ही बड़े हुए है।
आगे की कहानी में, मैं आप को बताऊंगा कैसे मैंने अपनी दीदी पूजा और रुपाली को लेस्बियन सेक्स करते पकड़ा और आगे क्या हुआ इसके लिए कहानी के 3rd पार्ट का इन्तजार करें।…

कहानी शेयर करें::
loading...