मेरी बहन ने खुद अपनी सील तुड़वाई

Desi kahani मेरा नाम विशाल हे और आज मैं आप के लिए हाजिर हुआ हूँ अपनी एक Sex Kahani को ले के. इस कहानी में आप पढेंगे मेरी और मेरी कजिन बहन निधि की पहली यानी की फर्स्ट चुदाई को. दोस्तों अभी मेरी एज 34 साल हे और ये कहानी आज से ऑलमोस्ट 14 साल पहले की हे जब मैं हट्टा कट्टा नवजवान था. उस समय मेरा लंड 6 इंच का था. (जानकारी के लिए जान ले की मेरा लंड आजकल 7 इंच का हे!) मैं अपने चाचा के घर पर रह के पढ़ाई करता था. जहाँ पर मेरी चाची और उनकी माँ भी रहती थी. चाची की माँ को हम नानी कह के बुलाते थे. मेरी और निधि को बहुत बनती थी और हम दोनों खूब मस्ती करते थे पूरा दिन. मेरे चाचा जी गवर्नमेंट सेक्टर में ऑफिसर थे इसलिए और उनका घर ऑफिस से वाल्किंग यानी के चल के जाया जा सके इतने फासले पर ही था.

दोस्तों मेरी कजिन निधि एकदम गोरी और सुंदर थी. उसका मस्त शरीर, मोटी मोटी आँखे, बड़े बड़े बूब्स थे जिसे देख कर मेरा मन तो बस उसे चोदने के लिए करता था. और करे भी क्यूँ ना एक तो मुझे नयी नयी जवानी चढ़ने से पहले से ही लंड में खुजली होती थी. और सामने निधि थी ही इतनी सेक्सी की बेकाबू मन को काबू में करना और मुश्किल सा था. मैं आप को बता दूँ की मैं निधि और नानी एक बड़े से हॉल के अन्दर 2 चारपाई लगाकर सोते थे. मैं एक तरफ कोने में और नानी बिच में. और दुसरे कौने के अन्दर निधि सोती थी. निधि को पहले से ही एक्सरसाइज का सौक था और वो रोज सुबह 4 बजे उठ के व्यायाम वगेरह करती थी.

हम रोज रात को बहुत सब बातें करते थे और खूब मस्ती भी करते थे. और नानी हम लोगों को कभी कभी कहानियाँ भी सुनाती थी. अब आप कहोगे की इतने बड़े हो कर भी कहानियाँ सुनते हो! पर क्या करें दोस्तों नानी जी की कहानियों का अपना अलग ही मजा था जो बड़े होकर भी सुनने में मजा आता था. एक दिन की बात हे उस समय शर्दी का मौसम था और हम एक ही रजाई में सो रहे थे और सुबह के समय नानी बिस्तर से उठकर बहार चली गई थी. तभी अचानक ठंड की वजह से निधि मेरे पास आकर मेरी कमर से चिपक गई. और मुझे जब इसका अहसास हुआ तो मुझे थोडा अलग और अजीब लगा लेकिन मजा भी आ रहा था. मेरे साथ ये पहली बार हो रहा था.

मैं मन ही मन सोचने लगा की निधि के साथ कुछ करूँ पर मैंने कुछ भी नहीं किया और चुपचाप लेटा रहा. कुछ देर के बाद निधि के बड़े बूब्स मेरी कमर से लग रहे थे तब मुझे अहसास हुआ की निधि जाग रही हे और ये जानबूझ के कर रही थी वो! अब मैंने भी उसकी तरफ अपना मुहं कर लिया और बोला, ये करा कर रही हो निधि?

निधि ने कुछ नहीं बोला और वो निचे देख के हंस रही थी. फिर उसने मेरी शर्ट के अन्दर हाथ डाल के मेरी छाती को सहलाई. तभी नानी कमरे के अन्दर आई और निधि ने हाथ वापस ले लिया अपना. उस दिन तो हम कुछ कर नहीं पाए पर सारा दिन मुझे निधि की चुदाई के ही ख्याल आ रहे थे. वो भी मुझे देखकर मुस्कुराती थी और फिर जब हम अगली रात को सोये और नानी सुबह उठ के गई तो निधि वापस मेरे करीब आ गई. तब मेरी नींद कच्ची थी. निधि ने मेरे पास आते ही मेरा हाथ अपने बूब्स पर रख दिया और अपने हाथ को मेरे पजामे में अंदर डाल कर लंड को पकड़ लिया. उसके ऐया करने से मुझे कुछ अजीब सा अहसास हो रहा था. और फिर उसके मसलने के बाद लंड खड़ा हो गया और मैंने भी अपनी आँखे खोल कर उसके बूब्स को दबाना चालू कर दिया. और साथ साथ मैं निधि के होंठो को भी चूसने लगा था.

अब हम दोनों निचे से नंगे हो गए और एक दुसरे से चिपक गए. तभी निधि ने मेरे लंड को अपनी चूत पर रखा और उसे घिसने लगी. मुझे बहोत मजा आ रहा था क्यूंकि मैं ये सब इतना नहीं जानता था इसलिए मैंने ज्यादा पहन भी नहीं करी थी.मेरा लंड मेरी इस सेक्सी बहन की चूत के ऊपर रगड़ खा रहा था. और मुझे बहुत ही मजा आ रहा था. फिर निधि ने मेरे ऊपर आ के अपनी चूत में लंड को डलवा लिया. मैंने भी धीरे से निचे से धक्का लगाया और थोडा सा लंड अन्दर जाने पर उसको दर्द हुआ और आधा लंड जाने पर उसके मुहं से चीख भी निकल गई.

इधर मेरे लंड में भी काफी दर्द हो रहा था. पर निधि को तो अपनी चूत मरवाने का क्रेज सा चढ़ा हुआ था आज इसलिए वो पूरा ऊपर बैठ कर लंड के ऊपर उछलने लगी. वैसे मुझे दर्द हो रहा था लेकिन अपनी कजिन बहन की चूत चोद के मज़ा भी आ रहा था.निधि ने अब पूरा लंड अन्दर ले लिया था और वो उछल रही थी मजे भी ले रही थी. तभी उसकी चूत से गिला चिकना पानी निकल पड़ा जिसकी वजह से मेरा लंड पूरा के पूरा भीग भी गया. और वो थक भी गई थी अपनी गांड जोर जोर से हिला के. वो मेरे ऊपर लुडक के ऐसे ही लेट गई.

अब थोड़ी ही देर बाद उसने पलटी खाई और खुद निचे हो गई और मुझे अपने ऊपर कर लिया. ऐसे करते ही निधि बोली: कैसे मर्द हो तुम, लड़की निचे होते हुए भी कुछ नहीं कर सकते हो. सारी चुदाई मुझे ही करनी पड़ रही हे. तुम भी तो चोद लो मुझे थोड़ा.ये सुन के मुझे भी जोश चढ़ गया और मैं उसके ऊपर जोर जोर से चढ़ के चोदने लगा मुझे. मेरे लंड में दर्द तो बहुत हो रहा था पर अब इतने धक्के लगाने के बाद मुझे ही क्या निधि को भी बड़ा मजा आने लगा था. और वो जोर जोर से सिसिकियां ले रही थी लम्बी लाबी और साथ में अपने गांड को मेरे ऊपर उछाल उछाल के चुदवाने लगी थी.

मैंने भी अपनी स्पीड को एकदम से बढ़ा दिया था और निधि आह अह्ह्ह अह्ह्म  की आवाजें निकालने लगी और मैंने उसके होंठो को चूसने लगा. करीब 2 मिनिट और धक्के देने क बाद मेरे लंड में कुछ अजीब सी खलबली मची और मैं उसे समझता उसके पहले तो मेरे लंड से बहुत सब वीर्य निकल के मेरी इस हॉट बहन की चूत में भर गया. मेरे साथ साथ निधि की चूत ने भी बहुत सब पानी निकाल दिया था.हम दोनों ही थक से गए थे. मेरे लंड में और उसकी चूत में दर्द हो रहा था. और मैंने जब उसकी चूत से लंड बहार निकाल के देखा तो उसके ऊपर खून लगा हुआ था.

मैंने कहा: निधि तुम्हारी सिल टूट गई लगता हे!

निधि: हाँ लेकिन मैं तो कब से तुडवाना चाहती थी इसे लेकिन तुम थे की कुछ करते हु नहीं थे.मैंने कहा: अब मैं तुम्हे रोज चोदुंगा मेरी डार्लिंग. आज तुम्हारी चूत के साथ साथ मेरे लंड का भी ओपनिंग हो गया हे. दोस्तों निधि की शादी होने के बाद भी 5 साल तक वो मेरे से चुदती रही थी. आजकल वो कनाडा में सेट हे अपने पति और बेटे के साथ. उसकी बात माने तो बेटा मेरे लंड से ही पैदा हुआ हे!